Monday, 8 February 2016

आज ज़रा फुरसत पायी थी, आज उसे फिर याद किया
बंद गली के आखिरी घर को खोल के फिर आबाद किया - निदा फ़ाज़ली
#RIP

No comments:

Post a Comment